Home उत्तराखंड कबड्डी, खो-खो, फुटबॉल, प्राचीन मल्ल, अखाड़ों से निकला गतका और मलखम्ब को...

कबड्डी, खो-खो, फुटबॉल, प्राचीन मल्ल, अखाड़ों से निकला गतका और मलखम्ब को विश्व पटल पर पहचान दिलाने की कोशिश में जुटी धामी सरकार

14

मुख्यमंत्री  पुष्कर सिंह धामी ने आज पवेलियन ग्राउण्ड में दि हिमालयन कप ऑल इण्डिया फुटबॉल टूर्नामेंट के समापन समारोह में खिलाड़ियों को सम्बोधित करते हुए कहा कि युवा खिलाड़ी अपना लक्ष्य निर्धारित कर उसे प्राप्त करने के लिये पूरी मेहनत एवं एकाग्रता के साथ प्रयास करें। मुख्यमंत्री ने कहा कि विकल्प रहित संकल्प ही सफलता का मूलमंत्र है। उन्होंने खिलाड़ियों से दृढ़ इच्छाशक्ति एवं मेहनत के साथ विभिन्न खेल प्रतिस्पर्धाओं में बेहतर प्रदर्शन पर ध्यान देने की अपेक्षा की मुख्यमंत्री ने कहा कि युवा जिस भी क्षेत्र में जाएँ वहां लीडर बनने का प्रयास करें।  धामी ने कहा कि हमारा प्रयास है कि भारत के पौराणिक खेलों जैसे कबड्डी, खो-खो, फुटबॉल अथवा प्राचीन मल्ल, अखाड़ों से निकला गतका और मलखम्ब को विश्व पटल पर पहचान दिलायी जाए। एक समय पर भूला दिए गए ये सभी खेल आज देश-विदेश में खूब प्रसिद्ध हो रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि वे स्वयं भी फुटबॉल के प्रशंसक रहे हैं। खेल के मैदान में भी उत्तराखण्ड अग्रणी राज्य बने इसके लिए खिलाड़ियों के प्रोत्साहन हेतु नई खेल नीति बनाई गई है। स्पोर्ट्स कॉलेज रायपुर को अंतराष्ट्रीय स्तर की स्पोर्ट्स यूनिवर्सिटी बनाने हेतु प्रयास किये जा रहे हैं।उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री  नरेंद्र मोदी जी ने खेल प्रतिभाओं को पहचान कर उन्हें जरूरी सहयोग देना शुरू किया है। बेहतर ट्रेनिंग सुविधाएं खिलाड़ियों को दी जा रही हैं। विश्व स्तर पर भी हमारे खिलाड़ियों को सम्मान प्राप्त हो रहा है। समापन समारोह में कैबिनेट मंत्री  सुबोध उनियाल, मेयर  सुनील उनियाल गामा , विशेष प्रमुख सचिव  अभिनव कुमार एवं खेल विभाग के अधिकारी, खेल संघों के प्रतिनिधि, फुटबॉल खिलाड़ी मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY